March 3, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

सुप्रीम कोर्ट पहुंचा चंडीगढ़ मेयर चुनाव धांधली का मामला, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने इसे ‘लोकतंत्र की हत्या बताया’

0
Chandigarh Mayur Election

Chandigarh Mayur Election

Chandigarh Mayor Elections: चंडीगढ़ मेयर चुनाव में धांधली से जुड़ा मामला अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुका है। आज इस मामले पर शीर्ष कोर्ट में सुनवाई हुई। वहीं मुख्य न्यायाधीश जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने इसे ‘लोकतंत्र की हत्या’ बताया है। बता दें कि बीते दिनों चंडीगढ़ में हुए मेयर चुनाव में इंडिया गठबंधन को हार का सामना करना पड़ा था। बीजेपी से उम्मीदवार मनोज सोनकर ने चंडीगढ़ मेयर चुनाव जीता था। उसके बाद इस मेयर चुनाव को लेकर इंडिया गठबंधन ने बीजेपी पर धांधली करके जीतने का आरोप लगाया था। इसके तहत ही इस मामले पर आम आदमी पार्टी (AAP) के पार्षद कुलदीप कुमार ने याचिका दर्ज करवाई। जिस पर आज सुनवाई हुई है।

आगामी बैठक अगली सुनवाई तक टली

कोर्ट में आम आदमी पार्टी की ओर से वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी मौजूद रहे। उन्होंने कोर्ट को उस दिन की कार्यवाही का वीडियो सौंपा। कोर्ट ने ये वीडियो देखा। इसके बाद सीजेआई ने कहा कि ”यह तो लोकतंत्र का मजाक है। यहां इलेक्टोरल प्रॉसेस का मजाक हुआ है। इसी के साथ कोर्ट ने चंडीगढ़ नगर निगम को बड़ा झटका देते हुए आगामी बैठकों को अगली सुनवाई तक टाल दिया है।इस मामले में अगली सुनवाई अगले हफ्ते सोमवार 12 फरवरी को होगी। साथ ही कोर्ट ने निगम में पेश होने वाले बजट पर भी रोक लगा दी है।”

Also Read: सामने आया यूपी सरकार का बजट 2024-25, धार्मिक कार्यों को पर रहीं खास नजर

यह है पूरा मामला

बता दें कि आम आदमी पार्टी (AAP) ने चंडीगढ़ मेयर चुनाव में धांधली का आरोप लगाया है। उसके कई पार्षद पिछले दिनों सड़कों पर उतरे थे। आरोप है कि कांग्रेस गठबंधन के पास 20 वोट थे, जबकि भाजपा के पास 16 वोट, इसके बावजूद आम आदमी पार्टी और कांग्रेस गठबंधन के आठ वोट अवैध करार दे दिए गए। इसके बाद बीजेपी के मेयर उम्मीदवार को 16 वोट के साथ विजेता घोषित कर दिया गया।

अरविंद केजरीवाल ने चंडीगढ़ मेयर चुनाव को लेकर कहा कि ”चंडीगढ़ मेयर चुनाव में दिनदहाड़े जिस तरह से बेईमानी की गई है, वो बेहद चिंताजनक है।” उन्होंने आगे कहा कि ”यदि एक मेयर चुनाव में ये लोग इतना नीचे गिर सकते हैं तो देश के चुनाव में यह किसी भी हद तक जा सकते हैं।” उन्होंने यह भी कहा, “यह बहुत चिंताजनक है। चंडीगढ़ नगर निगम में 35 सदस्यीय सदन में भाजपा के 14 पार्षद हैं। आप के 13 और कांग्रेस के सात पार्षद हैं। शिरोमणि अकाली दल का एक पार्षद है। वहीं, पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने भी कहा कि ”जब ये 26 वोट गिनने में घोटाला कर सकते हैं तो 90 करोड़ वोटों का क्या होगा?”

वायरल वीडियो में दिखा यह खेला

दरअसल सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें एक व्यक्ति को पेन से कुछ पेपर्स पर लिखते हुए दिखाया गया है। वो कोई और नहीं बल्कि पीठासीन अधिकारी हैं। इस वीडियो के सामने आने के बाद से ही ये कहा जा रहा है कि पीठासीन अधिकारी मेयर चुनावों में घोटालेबाजी कर रहे हैं। इसे कांग्रेस से लेकर आम आदमी पार्टी और इंडी गठबंधन के कई लोगों ने शेयर भी किया है और भाजपा पर निशाना भी साधा है। सभी यही कहते नजर आ रहे हैं कि भाजपा अगर इस छोटे से चुनाव में घोटालेबाजी कर रही है तो वो लेकसभा चुनाव में क्या करेगी?

कैमरे की तरफ क्यों देख रहे हो?

चंडीगढ़ मेयर चुनाव एक और वीडियो सामने आया जिसमें नजर देखा गया कि रिटर्निंग ऑफिसर कैमरे की तरफ देख रहे हैं। सीजेआई ने कहा कि ”वह कैमरे की तरफ क्यों देख रहे हैं? उनका व्यवहार संदिग्ध है। इसके बाद इस मामले में शीर्ष कोर्ट ने नोटिस कर जवाब मांगा है।” सुप्रीम कोर्ट ने मेयर चुनाव से जुड़े सभी दस्तावेज और वीडियो सुरक्षित कर सोमवार शाम 5 बजे तक हाई कोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल को इसे सौंपने को कहा है।

 

Also Read: हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी में शामिल राजभवन, बोले राजनीति छोड़ दूंगा!

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *