April 20, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

जिया खान सुसाइड केस में 10 साल बाद आया फैसला, सबूतों के अभाव में कोर्ट ने मुख्य आरोपी सूरज पंचोली को किया बरी

0
Sooraj Pancholi acquitt

Jiah Khan Case Verdict: एक्ट्रेस जिया खान (Jiah Khan) सुसाइड केस में आज 10 साल बाद सीबीआई ने अपना फैसला सुनाया है. जिया खान केस में मुख्य आरोपी सूरज पंचोली (Suraj Pancholi) को सीबीआई कोर्ट ने बरी कर दिया है.

सीबीआई अदालत के न्यायाधीश एएस सैय्यद ने सूरज पंचोली को बरी करते हुए कहा कि सबूतों की कमी के कारण, यह अदालत आपको (सूरज पंचोली) दोषी नहीं ठहरा सकती. इसलिए आपको बरी किया जाता है. फैसले के वक्त कोर्ट में सूरज पंचोली अपनी मां जरीना वहाब  के साथ मौजूद थे.

2013 में जिया ने किया था सुसाइड

गौरतलब है कि साल 2013 में एक्ट्रेस जिया खान (Jiah Khan) ने जुहू स्थित फ्लैट पर सुसाइड कर लिया था. जिससे बॉलीवुड जगत को बड़ा झटका लगा था. हालांकि जिया खान के परिवार वालो ने बेटी की मौत को हत्या बताया था. परीवार ने इसके पीछे जिया खान के एक्स बॉयफ्रेंड सूरज पंचोली पर आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया था.

जिसके बाद, परिवार ने मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की थी. इसको लेकर जिया की मां ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा था. जिसके बाद साल 2014 में यह केस सीबीआई को सौंपा गया था. बता दें कि जिया खान (Jiah Khan) ने आत्महत्या करने से पहले छह पेज का सुसाइड नोट लिखा था, जिसमें उन्होंने अबॉर्शन का दर्द भी बयां किया था.

 

‘हाईकोर्ट में लेकर जाऊंगी मामला’

जिया खान (Jiah Khan) सुसाइड केस में सूरज पंचोली को बरी किए जाने पर एकट्रेस की मां ने हैरानी जताई है. राबिया खान ने कहा कि- “वह सीबीआई कोर्ट के इस फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील दायर करेंगी.

उन्होंने कहा कि- ‘मैं शुरू से यह कह रही हूं कि ये मर्डर है. सीबीआई ने अपना काम सही से नहीं किया है. इसलिए सबूत नहीं मिले. सीबीआई ने अगर अपना काम ईमानदारी से किया होता तो सबूतों के अभाव में सूरज पंचोली को नहीं छोड़ा जाता. मैंने हार नहीं मानी है और इस मामले को आगे लेकर जाऊंगी.”

सूरज पंचोली ने कही थी ये बात

Suraj Pancholi

वहीं, जिया खान (Jiah Khan) केस में खुद का नाम आने पर सूरज पंचोली (Suraj Pancholi) ने कई मौकों पर कहा था कि- “यदि वह इस केस में दोषी पाए गए तो उन्हें सजा जरूर मिलनी चाहिए. साथ ही उन्होंने इस केस की सुनवाई सीबीआई अदालत में होने की बात कही थी. जिससे जल्द से जल्द उन्हें न्याय और सबके सामने सच आ सके.” एक दफा उन्होंने कहा था कि- “इस केस के कारण मेरी छवि काफी ज्यादा खराब हुई और मैं पूरी तरह से बर्बाद हो गया.”

ये भी पढ़ें- मेरे पिता, भाई और चाचा की हत्या के लिए सपा और बीजेपी जिम्मेदार, नैनी जेल में बंद अली ने मुसलमानों के नाम लिखा पत्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *