April 19, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

Kolkata ED Raid: व्यापारी के घर से ट्रक में ठूंस-ठूंसकर रखे गए 17 करोड़ कैश बरामद, गेमिंग ऐप के जरिए बनाया पैसा

0
Kolkata ED Raid

Kolkata ED Raid: कोलकाता में शनिवार को ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) के अधिकारियों ने एक व्यवसायी के घर पर छापेमारी की है. छापेमारी में ईडी (Kolkata ED Raid) को व्यापारी के घर से 17 करोड़ रुपये से अधिक कैश बरामद हुआ है. व्यापारी आमिर खान के घर में ईडी को 10 ट्रंक मिले, जिसमें से 5 ट्रंक में 200-500 और 2000 के नोट ठूंस-ठूंसकर भरे गए थे. ईडी द्वारा यह छापेमारी व्यापारी के गार्डन रीच स्थित आवास पर की गई थी. ईडी की टीम के साथ बैंक अधिकारी और केंद्रीय बल भी मौजूद थे.

मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत ईडी की रेड

Kolkata ED Raid

ईडी द्वारा यह छापेमारी (Kolkata ED Raid) प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत की गई थी. बता दें कि फेडरल बैंक के अधिकारियों द्वारा मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत में शिकायत दायर की गई थी. जिसके आधार पर व्यापारी आमिर खान समेत 16 लोगों के खिलाफ फरवरी महीनें में पार्क स्ट्रीट पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज किया गया था. जिसके बाद ईडी द्वारा की गई छापेमारी में व्यापारी के घर से करोड़ों का कैश बरामद हुआ है. बरामद नोटों के ढेर में ज्यादातर 500 के नोट मिले हैं. वहीं, 200 और 2000 का नोट भी प्राप्त किया गया है.

 

गेमिंग ऐप के जरिए करता था धोखाधड़ी

Kolkata ED Raid

जांच एजेंसी ने बताया, “आमिर खान ने ई-नगेट्स नाम से एक मोबाइल गेमिंग एप्लिकेशन लॉन्च किया था, जिसे धोखाधड़ी करने के उद्देश्य से बनाया गया था. इस ऐप से पहले यूजर्स को कमीशन के साथ रिवार्ड दिया गया फिर उनके वॉलेट में कैश भेजा गया. जब यूजर्स को भरोसा हो गया तो वे इस गेमिंग ऐप्लिकेशन के जरिए अधिक पैसे जीतने के लिए पैसे लगाने लगे.” जिसके बाद ज्यादा पैसे जितने वालों यूजर्स के साथ धोखाधड़ी कर करोड़ों पैसे कमाया.

नकली खातों का करता था इस्तेमाल

Kolkata ED Raid

जांच एजेंसी (Kolkata ED Raid) ने बताया कि यूजर्स के पैसे लगाने के बाद मोबाइल गेमिंग ऐप के जरिए अच्छी खासी रकम इकट्ठा करने के बाद, अचानक ऐप से निकासी को रोक दिया गया, जिसमें बहाने बनाए गए कि सिस्टम अपग्रेडेशन, कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा एक जांच की जा रही है. इसके बाद, प्रोफाइल से सारी जानकारी सहित सभी डेटा को ऐप सर्वर से डिलीट कर दिया गया. जिसके बाद यूजर्स को धोखाधड़ी की चाल समझ में आई.” एजेंसी ने कहा कि तलाशी अभियान के दौरान यह देखा गया कि मामले से जुड़ी संस्थाएं नकली खातों का इस्तेमाल कर रही थीं और यूजर्स को धोखा देकर करोड़ों रुपये कमाए थे.

ये भी पढ़ें- क्या तमिल लड़की के साथ शादी करेंगे Rahul Gandhi!, जयराम रमेश ने तस्वीर शेयर कर बताई सच्चाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *