April 13, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

प्रधानमंत्री Narendra Modi ने की मुख्य सचिवों के राष्ट्रीय सम्मेलन की अध्यक्षता, 200 से अधिक ब्‍यूरोक्रेट्स ले रहे हैं हिस्सा

0
Narendra Modi

Chief Secretaries Conference: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने आज शुक्रवार 6 जनवरी को मुख्य सचिवों के राष्ट्रीय सम्मेलन (Chief Secretaries Conference) की अध्यक्षता की. सम्मेलन में केंद्रीय मंत्रालयों और राज्यों के साथ मिलकर काम करने वाले डिपार्टमेंटों पर चर्चा की जाएगी.

बता दें कि मुख्य सचिवों का यह दूसरा राष्ट्रीय सम्मेलन था. जो दिल्ली में आयोजित हुआ. जबकि पहला सम्मेलन धर्मशाला में आयोजित किया गया था.

क्या है राष्ट्रीय सम्मेलन का उद्देश्य?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने राष्ट्रीय सम्मेलन का उद्देश्य बताते हुए कहा कि- केंद्र और राज्यों के साथ मिलकर काम करने वाले विभागों के माध्यम से सहकारी संघवाद नए भारत के विकास और प्रगति के लिए एक आवश्यक स्तंभ है.

प्रधान मंत्री कार्यालय (PMO) के अनुसार 5 जनवरी 2023 को शुरू हुए मुख्य सचिवों के दूसरे सम्मेलन में केंद्र का ध्‍यान राज्यों के साथ साझेदारी में तेज और निरंतर आर्थिक विकास को हासिल करने पर केंद्रित रहेगा. इसी मकसद को ध्यान में रखते हुए, सालभर पहले प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने इस सम्मेलन की परिकल्पना की थी, जो पहली बार जून 2022 को धर्मशाला में आयोजन के साथ शुरू हुई थी.

200 से अधिक ब्‍यूरोक्रेट्स ले रहे हैं हिस्सा

प्रधान मंत्री कार्यालय (PMO) के अनुसार, इस वर्ष, मुख्य सचिवों का राष्ट्रीय सम्मेलन 7 जनवरी तक चलेगा. इस सम्‍मेलन में 200 से अधिक ब्‍यूरोक्रेट्स हिस्‍सा ले रहे हैं, जिनमें केंद्र सरकार के प्रतिनिधि, मुख्य सचिव और सभी राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के अन्य वरिष्ठ अधिकारी और डोमेन एक्‍सपर्ट्स शामिल हैं.

पीएमओ के मुताबिक ”इस सम्मेलन में MSME, बुनियादी ढांचे, अनुपालन को कम करने, महिला सशक्तिकरण, स्वास्थ्य और पोषण, कौशल विकास सहित 6 विषयों पर चर्चा की जा रही है.” बता दें कि मुख्य सचिवों के राष्ट्रीय सम्मेलन को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की अध्यक्षता में काफी दिनों से तैयारी चल रही थी.

 

ये भी पढ़ें- Akhilesh Yadav ने मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के मुंबई दौरे पर कसा तंज, बताया यूपी में निवेश करने कोई क्यों नहीं है तैयार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *