March 2, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

Kisan Andolan: किसानों के प्रदर्शन से नोएडा-दिल्‍ली वालों की बढ़ी मुश्किलें, दिखा भयंकर जाम, धारा 144 लागू

0
Kisan-Andolan

Kisan-Andolan

Kisan Andolan: अपनी अलग-अलग मांगों को लेकर किसान एक बार फिर सड़कों पर उतर आए हैं। किसानों के इस महाकूच से दिल्ली-नोएडा बॉर्डर पर संग्राम मचा हुआ है। जी हां दिल्ली-नोएडा, चिल्ला बॉर्डर पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। नोएडा से दिल्ली जाने वाले डीएनडी, चिल्ला और कालिंदी कुंज बॉर्डर पर जाम ही जाम है। दरअसल, संसद की ओर मार्च कर रहे किसानों को दिल्ली के इन्हीं बॉर्डरों पर बैरिकेडिंग लगाकर रोक दिया गया है। दिल्ली और यूपी पुलिस दोनों के जवान तैनात हैं। साथ ही किसानों के दिल्ली कूच को देखते हुए दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने ट्रैफिक को लेकर एडवाइजरी जारी की है।

नोएडा-दिल्ली वालों की मुश्किल बढ़ी

बता दें कि संसद की ओर मार्च कर रहे उत्तर प्रदेश के किसानों को पुलिस ने नोएडा के महामाया फ्लाईओवर के पास रोका गया है। किसानों की भारी भीड़ दलित प्रेरणा स्थल के पास जमा है। हालांकि पुलिस ने बैरिकेडिंग की मदद से किसानों की भीड़ को कंट्रोल किया हुआ है। गौरतलब है कि दलित प्रेरणा स्थल नोएडा सेक्टर 18 जाने वाली रोड में पड़ता है। ऐसे में सेक्टर-18 से ग्रेटर नोएडा जाने वाले लोगों के लिए जाम की स्थिति बन सकती है। वहीं ग्रेटर नोएडा से दिल्ली या सेक्टर-18 आने वाले लोगों के लिए भी मुश्किल हो सकती है।

यह भी पढ़े: अरविंद केजरीवाल को ईडी ने दिया झटका, 17 फरवरी को कोर्ट में पेश होने के आदेश

दिल्ली-चिल्ला बॉर्डर पर जाम

इतना ही नहीं, किसानों का हुजूम पूर्वी दिल्ली में चिल्ला बॉर्डर के पास भी बढ़ रहा था। दिल्ली पुलिस बॉर्डर के आसपास की स्थिति पर नजर रखे हुए है। किसानों ने दिल्ली-चिल्ला बॉर्डर की ओर से भी संसद की ओर मार्च करते हुए जा रहे थे।

यहां-यहां ट्रैफिक में फंसे लोग

दरअसल किसानों के दिल्ली मार्च के मद्देनजर आज सुबह से ही दिल्ली-एनसीआर के कई मुख्य रास्तों पर ट्रैफिक जाम देखने को मिला। दिल्ली से नोएडा आने वाले लोग रुकते थमते ऑफिस पहुंचे। वहीं गाजियाबाद से दिल्ली जाने वाले लोग भी यूपी गेट और एनएच-9 में जाम से जूझते नजर आए। गाजियाबाद में जीटी रोड और मोहन नगर रोड पर ट्रैफिक काफी स्लो है। साथ ही नोएडा 62 से सेक्टर-18 की तरफ जाने वाले रास्ते पर भी सुबह से ट्रैफिक रुक-रुक कर आगे बढ़ गया है।

किसानों के दिल्ली में प्रवेश के चलते बॉर्डर एरिया में दिल्ली पुलिस की बेरेकेडिंग के चलते ट्रैफिक प्रभावित, जीटी रोड, यूपी गेट, महाराजपुर और ज्ञानी बॉर्डर की तरफ सुबह से जाम में वाहन फंसे रहे। इंदिरापुरम के इंटर्नल रास्तों पर भी ट्रैफिक का दबाव रहा। गौर चौराहे पर ट्रैफिक में लोग फंसे रहे।

पुलिस ले सकती है एक्शन

वही, दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की तरफ कहा गया कि ”आज सोनिया विहार, डीएनडी, चिल्ला, गाजीपुर, सभापुर, अप्सरा और लोनी बॉर्डर से जुड़े मार्गों पर भारी ट्रैफिक रहेगा। इसके अनुसार ही अपनी यात्रा टालें या योजना बनाएं। किसानों के दिल्ली बढ़ने के कारण एक्सप्रेस वे और दिल्ली आने वाले रास्तों पर ट्रैफिक जाम की समस्या हो सकती है।”
हालांकि, गौतम बुद्ध नगर जिले में कमिश्नरेट की तरफ से गुरुवार यानी कि आज धारा-144 लागू रहेगी। ऐसे में बिना अनुमति के कहीं पर भीड़ के जुटने या शांतिभंग की आशंका में पुलिस की तरफ से एक्शन लिया जा सकता है।

ट्रैफिक सेक्टर-1 से रजनीगंधा निकलेगा

बता दें कि किसानों ने महामाया फ्लाईओवर के पास से एकत्रित होकर दिल्ली की तरफ कूच किया था। ऐसे में एक्सप्रेस वे और दिल्ली आने वाले रास्तों पर भारी ट्रैफिक देखने को मिली। इसके लिए सेक्टर-94 चरखा गोलचक्कर से बॉटनिकल गार्डन और फिर न्यू अशोक नगर की तरफ से दिल्ली की तरफ निकले।

सेक्टर-1 गोल चक्कर व झुंडपुरा के बीच उद्योग मार्ग पर जाने वाला ट्रैफिक को रोकने की योजना थी। इस रास्ते का ट्रैफिक रजनीगंधा चौराहे से सेक्टर-12,22,56 की तरफ से निकलेगा। झुंडुपुरा की तरफ से सेक्टर-1 गोल चक्कर की तरफ आने वाला ट्रैफिक सीधे स्टेडियम चौराहा और फिर वहां से रजनीगंधा होकर निकाला जाएगा।

यह है किसानों की मांग

अब आपके भी मन में ये सवाल आ रहा होगा की किसानों का ये हुजूम आखिरकार किस वजह से दिल्ली कूच कर रहा है… तो आइए हम आपको बताते है इसके पीछे की वजह… दरअसल, किसान संगठन दिसंबर 2023 से नोएडा और ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण की तरफ से अधिग्रहीत अपनी जमीनों के बदले बढ़ा हुआ मुआवजा और विकसित भूखंड देने की मांग को लेकर विरोध- प्रदर्शन कर रहे हैं।

किसानों का कहना है कि 10 प्रतिशत प्‍लॉट, आबादी का पूर्ण
निस्‍तारण, बढ़ा हुआ मुआवजा और स्‍थानीय लोगों को रोजगार दिया जाए। गौरतलब है कि सरकारी परियोजनाओं, विकास कार्य समेत कई दूसरे प्रोजेक्‍ट के लिए दिल्‍ली-एनसीआर के आसपास इलाकों के गांवों की जमीन अधिग्रहीत की गई है। किसानों की इन मांगों का कई संगठनों ने समर्थन किया है।

 

यह भी पढ़े: कार में हो जाए सेंट्रल लॉक तो ऐसे बचाएं जान, इन टिप्स से मुसीबत हो सकती है दूर!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *