April 19, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

मणिपुर में राहत कैंप तक नहीं पहुँच पाए राहुल गांधी, काफिला लौटा इंफाल, कांग्रेस ने जताई नाराजगी

0
Rahul Gandhi

Manipur Violence : कांग्रेस (Congress) नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) आज से 2 दिनों के मणिपुर दौरे पर है. जहां दोपहर में राहुल इम्फाल एयरपोर्ट पर उतरने के बाद सीधे हिंसा पीड़ितों से मुलाकात करने के लिए निकले. लेकिन पुलिस ने उन्हें आगे जाने की अनुमति नहीं दी. उनके काफिले को  बिष्णुपुर जिले में रोक दिया गया. जिसके बाद अब यह काफिला इम्फाल की तारफ वापस लौटने लगा है.

बिष्णुपुर के एसपी ने बताया कि राहुल (Rahul Gandhi) समेत किसी को आगे नहीं जाने दिया जा सकता है. हमारे लिए उनकी सुरक्षा प्राथमिकता में है. आगजनी हुई है और कल रात भी हालात बदतर थे. पुलिस के द्वारा रोके जाने पर कुछ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बेरिकेड को तोड़ने की भी कोशिश की है. जिसके बाद पुलिस ने भीड़ को भगाने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े है. लंबी जद्दोजहद के बाद राहुल का काफिला वापस इम्फाल हवाई अड्डे की तरफ लौट रहा है.

मल्लिकार्जुन खड़गे ने किया ट्वीट

इस घटना को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे (Mallikarjun Kharge) ने ट्वीट किया. उन्होंने कहा, मणिपुर में राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के काफिले को विष्णुपुर में पुलिस ने रोक दिया. वो राहुल सिविर में रह रहे पीड़ितों से मुलाक़ात करने और संघर्षग्रस्त राज्य में भरोसे का दिया जालाने गए थे. पीएम मोदी मामले पर चुप्पी साधे हुए हैं. उन्होंने राज्य को अपने हाल पर छोड़ दिया है.

उन्होंने आगे कहा, अब उनकी डबल इंजन वाली विनाशकारी सरकार सहानुभुति की सोच रखने वाले राहुल गांधी को रोकने के लिए निरंकुश तरीके अपना रही है. यह पूरी तरह से असंवैधानिक और अस्वीकार्य है. मणिपुर को शांति की जरूरत है, टकराव की नहीं.

राहुल का 2 दिवसीय मणिपुर दौरा

Rahul Gandhi

राहुल (Rahul Gandhi) आज से 2 दिवसीय मणिपुर दौरे पर पहुंचे थे. वो गुरुवार सुबह दिल्ली से फ्लाइट में इम्फाल पहुंचे. 29 और 30 जून को राहुल का मणिपुर में रहने का प्लान था. वहां उन्हें पीड़ितों का हाल जानने के लिए राहत शिविर का दौरा करना था. इसके अलावा, राहुल मणिपुर की राजधानी इम्फाल और चुराचांदपुर में सिविल सोसायटी के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत करनी थी. राहुल को तुइबोंग की ग्रीनवुड अकादमी और चुराचांदपुर केसरकारी कॉलेज जाना था. उसके बाद कोन्जेंगबाम में सामुदायिक हॉल और मोइरांग कॉलेज पहुंचना था.

यह भी पढ़ें : किसानों को मिली बड़ी सौगात, PM-PRANAM नाम से नया प्रोजेक्ट शुरू, कैबिनेट ने 3.70 लाख करोड़ रुपये के पैकेज को दी मंजूरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *