April 13, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

पत्रकार निकला जासूस, पत्रकारिता की आड़ में विदेश भेज रहा था खुफिया जानकारी

0
CBI

DELHI: देश की सुरक्षा से जुड़ी जानकारियों को इकट्ठा कर पाकिस्तानी एजंसी और विदेशी खुफिया को भेजने के आरोप में केंद्रीय जॉंच एजेंसी (CBI) ने दिल्ली से एक बड़े पत्रकार (Journalist) को हिरासत में लिया है आरोपी पत्रकार की पहचान विवेक रघुवंशी (Vivek Raghuvanshi) के रुप में हुई है।

जानकारी के अनुसार ये पत्रकारिता की आड़ में DRDO और सेना से जुड़ी जानकारी लीक कर रहा था। सीबीआई (CBI) ने विवेक से जुड़े 12 जगहों पर छापेमारी की जहां से कुछ आपत्तिजनक दस्तावेज बरामद हुए हैं।

कई संवेदनशील जानकारियों को कर चुका था इकट्ठा

मीडिया रिपोर्ट की माने तो मामले की जांच कर रही सीबीआई (CBI) ने बताया कि पत्रकार विवेक कई दिनों से पत्रकारिता की आड़ में रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन और सेना की संवेदनशील जानकारियों को इकट्ठा कर रहा था। उसने डीआरडीओ और भारतीय सेना द्वारा भविष्य में खरीदी जाने वाली चीजों की भी ज्यादतर जानकारियां इकट्ठा कर ली थी।

साथ ही वो ये भी पता करने में जुटा था कि डीआरडीओ किन परियोजनाओं पर काम कर रहा है और आगे की उसकी क्या योजना है।  यही नहीं, उसने भारत के मित्र देशों के साथ चल रही कूटनीतिक और रणनीतिक वार्ताओं की जानकारी इकट्ठा कर रहा था। सीबीआई (CBI) के एक अधिकारी ने कहा है कि वह देश की सुरक्षा और अखंडता से जुड़ी इन जानकारियों को इकट्ठा कर कथित तौर पर विदेशी खुफिया एजेंसियों को भेज रहा था।

इसी को लेकर सीबीआई (CBI) ने दिल्ली, नोएडा, गुरुग्राम और जयपुर में 12 ठिकानों पर छापेमारी की है। कहा जा रहा है कि इस छापेमारी में कई महत्वपूर्ण दस्तावेज सीबीआई के हाथ लगे हैं। फिलहाल, सीबीआई आरोपित विवेक रघुवंशी(Journalist) के खिलाफ सरकारी गोपनीयता अधिनियम के तहत FIR दर्ज कर मामले की जाँच कर रही है। सरकारी गोपनीयता अधिनियम को जासूसी विरोधी अधिनियम भी कहा जाता है।

DRDO का डायरेक्टर पहले हो चुका है गिरफ्तार

बता दें कि इससे पहले इसी महीने 3 मई को महाराष्ट्र एटीएस ने डीआरडीओ के डायरेक्टर प्रदीप कुरुलकर को पुणे से पकड़ा गया था जानकारी के अनुसार प्रदीप कुरुलकर पर व्हाट्सएप मैसेज, वॉयस और वीडियो कॉल के जरिए पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI को जानकारी देने का आरोप है। यही नहीं, प्रदीप का पाकिस्तान इंटेलिजेंस ऑपरेटिव (PIO) की महिला एजेंट को भी खुफिया जानकारी देने का आरोप है।

बताया जा रहा है कि PIO एजेंट ने हनी ट्रैप में फँसाकर प्रदीप से कई महत्वपूर्ण और खुफिया  जानकारी हासिल कर ली। प्रदीप कुरुलकुर को आज पुणे की विशेष अदालत में पेश किया गया था। जहाँ से अदालत ने उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

 

यह भी पढ़ें : The Kerala Story को लेकर जब सुप्रीम कोर्ट ने तमिलनाडु सरकार से पुछा सवाल तो जानिए क्या कहा स्टालिन सरकार ने

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *