February 27, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

Paush Poornima पर भूलकर भी न करें ये गलतियां, जानें शुभ मुहूर्त और पूजन विधि

0

Paush Poornima: हिंदू धर्म में पूर्णिमा को एक त्योहार की तरह माना जाता है और इसका एक अलग महत्व होता है। लोग इस दिन व्रत रखते हैं, पूजा-अर्चना करते हैं और इस दिन को भगवान शिव को अर्पित किया जाता है। इस दिन स्नान और दान का विशेष महत्व होता है। साल की पहली पूर्णिमा यानी पौष पूर्णिमा 25 जनवरी 2025 दिन गुरुवार को है। इस दिन भगवान विष्णु और मां  लक्ष्मी की पूजा और व्रत किया जाता है। कहा जाता है कि इस दिन भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा करने से घर में धन-धान्य की कमी नहीं होती और घर में सुख समृद्धि आती है। इस दिन लोग गंगा स्नान करते हैं और दान-पुण्य करने का विशेष महत्व है। इस दिन लोगों को कुछ खास नियम अपनाने होते हैं जिनका पालन करना चाहिए।

यहां हम आपको पौष पूर्णिमा के शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और कौन सी गलतियां नहीं करनी चाहिए इसके बारे में जानकारी देने जा रहे हैं।

Also Read: Ram Mandir: कौन थी वो रानी जिसने राम मंदिर तोड़ने वाले को उतारा था मौत के घाट?

पौष पूर्णिमा 2024 सुभ मुहूर्त

बता दें कि साल की पहली पूर्णिमा यानी पौष पूर्णिमा 25 जनवरी 2024 दिन गुरुवार को है। हालांकि तिथि की शुरुआत 24 जनवरी 2024 की देर रात 09 बजकर 49 मिनट पर होगी और इसके अगले दिन यानी 25 जनवरी 2024 तक चलेगी। लेकिन हिंदू धर्म में सभी त्योहार सूर्योदय के साथ मनाए जाते हैं इसलिए पौष पूर्णिमा 25 जनवरी को ही मनाई जाएगी।

पूर्णिमा के दिन पूजन की विधि

पौष पूर्णिमा के दिन सुबह उठकर सबसे पहले स्नान आदि से निवृत्त होकर साफ वस्त्र पहनें और मंदिर की साफ-सफाई करें। इसके बाद गंगाजल छिड़ककर मंदिर को शुद्ध करें। इसके बाद भगवान सूर्य को अर्घ्य दें। इसके बाद विधिपूर्वक भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा करें। भगवान विष्णु को पीला फल, हल्दी, अक्षत, जौ आदि चीजें चढाएं। वहीं मां लक्ष्मी को चुनरी, लाल फूलों की माला और श्रंगार की चीजें चढ़ाएं। अब विष्णु चालीसा का पाठ कर आरती करें। फिर भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी को भोग लगाएं। इसके बाद लोगों में प्रसाद बांटें।

भूलकर भी न करें ये गलतियां

पौष पूर्णिमा के दिन भूलकर भी ये गलतियां नहीं करनी चाहिए। इस दिन तामसिक भोजन नहीं करना चाहिए यानी इस दिन लहसुन, प्याज आदि का सेवन नहीं करना चाहिए। इस दिन किसी भी व्यक्ति से वाद-विवाद करने से बचें। इस दिन किसी भिखारी को दरवाजे से खाली हाथ न जाने दें। इस दिन काले कपड़े न पहनें क्योंकि व्रत के दिन काले कपड़े पहनना अशुभ माना जाता है। इस दिन किसी बच्चे, बड़े या बुजुर्ग यानी के साथ भी गलत व्यवहार न करें।

Also Read: PM मोदी देशभर में शुरू करेंगे यह योजना, 1 करोड़ लोगों को मिलेगा यह लाभ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *