March 3, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

SCO Summit 2022 में शामिल होने के लिए आज उज़्बेकिस्तान रवाना होंगे PM Modi, आतंकवाद और सुरक्षा समेत इन अहम मुद्दों पर होगी चर्चा

0

SCO Summit 2022: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) एससीओ समिट 2022 (SCO Summit 2022) में शामिल होने के लिए उज़्बेकिस्तान के लिए रवाना हो रहे हैं. पीएम के रवाना होने से पहले विदेश मंत्रालय ने इस बात की जानकारी दी है. कोरोना महामारी के बाद एससीओ समिट 2022 (SCO Summit 2022) में पहली बार सभी स्थायी सदस्य देशों के नेता मंच पर एक साथ मौजूद होंगे. इस समिट को कई मायनों में खास बताया जा रहा है.

विदेश सचिव ने दी कार्यक्रम की जानकारी

Foreign Secretary Vinay Mohan Kwatra

विदेश सचिव विनय मोहन क्वात्रा ने प्रेस कॉन्फ्रेस करते हुए बताया कि, इस सम्मेलन में क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर बातचीत होगी. विदेश सचिव ने बताया कि, इस दौरान पीएम मोदी की उज़्बेकिस्तान के राष्ट्रपति के साथ द्विपक्षीय बातचीत होगी. इसके अलावा आतंकवाद से निपटने के उपायों को लेकर भी चर्चा होगी.

बता दें कि एससीओ समिट 2022 (SCO Summit 2022) में पाकिस्तान के पीएम शहबाज शरीफ और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग भी हिस्सा ले रहे हैं. समिट के दौरान इन दोनों नेताओं से पीएम की बातचीत होगी या नहीं इसपर विदेश सचिव की ओर से कोई बयान नहीं दिया गया है.

दो सेशन में होगा SCO समिट

SCO Summit 2022

विदेश मंत्रालय की तरफ से बताया गया है कि समिट (SCO Summit 2022) के दौरान कारोबार और पर्यटन भी बातचीत होगी. पीएम मोदी आज शाम तक उज़्बेकिस्तान के समरकंद पहुंच जाएंगे. जिसके बाद वो कल 16 सितंबर को समिट में हिस्सा लेंगे. इस बार यह समिट में दो सेशन हो रहा है. समिट के पहले सेशन में सिर्फ SCO देशों के बीच होगा. जिसमें स्थायी सदस्य ही हिस्सा ले सकते हैं. इसके बाद दूसरे सेशन में ऑब्जर्वर देश भी शामिल होंगे.

इन मामलों पर विस्तार से होगी चर्चा

SCO Summit 2022

विदेश सचिव की तरफ से बताया गया कि पूरे समिट (SCO Summit 2022) के दौरान सुरक्षा, कनेक्टिविटी, ट्रेड, टूरिज्म और अन्य मामलों पर विस्तार से चर्चा होगी. भारत सेंट्रल एशिया और पड़ोसी मुल्कों के साथ अपने रिश्ते मजबूत करने पर जोर देगा. बता दें कि SCO के संस्थापक सदस्य देशों में चीन, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, रूस, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान हैं. भारत और पाकिस्तान 2017 में इसके पूर्णकालिक सदस्यों के रूप में शामिल हुए थे.

ये भी पढ़ें- लखीमपुर खीरी में पेड़ से लटकता मिला दो नाबालिग बहनों का शव, विपक्ष ने सरकार और कानून व्यवस्था पर उठाए सवाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *