March 2, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

Project Cheetah: जन्मदिन पर पीएम मोदी ने कूनो नेशनल पार्क में छोड़े नामीबिया से लाए गए चीते, किये गए हैं कई खास इंतजाम

0
Project Cheetah PM Modi

Project Cheetah: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) का आज जन्मदिन है. पीएम ने जन्मदिन के मौके पर देशवासियों को एक खास तोहफा दिया हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने नामिबिया से लाए गए 8 चीतों (Project Cheetah) को मध्यप्रदेश के कूनो राष्ट्रीय उद्यान (Kuno National Park) में छोड़ दिया है. इस खास अवसर पर पीएम ने देश को संबोधित भी किया. बता दें कि चीतों के रख रखाव के लिए कई खास इंतजाम किया गया है.

चीतों ने खाली पेट तय किया 16 घंटे का सफर

Project Cheetah

पीएम मोदी के जन्मदिन (PM Narendra Modi Birthday) के मौके पर इन चीतों (Project Cheetah) को नामीबिया (Namibia) से स्पेशल बोईंग 747 विमान के जरिए भारत लाया गया है. इन चीतों को पहले कूनो नेशनल पार्क में रखने के लिए खास बाड़े को तैयार किए गया हैं. 8 चीतों में 3 नर और 5 मादा बताए जा रहे हैं.

बता दें कि यात्रा के दौरान 16 घंटे तक चीते खाली पेट रहें. एमपी के प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्यजीव) जेएस चौहान ने बताया कि एहतियात के तौर पर यह अनिवार्य है कि यात्रा शुरू करते समय जानवर को खाली पेट होना चाहिए. उन्होंने कहा कि नामीबिया से राष्ट्रीय उद्यान की यात्रा के दौरान चीतों (Cheetah) को कोई भोजन नहीं दिया जाएगा. इस तरह की सावधानी बरतने की जरूरत है, क्योंकि लंबी यात्रा जानवरों में मतली जैसी भावना पैदा कर सकती है जिससे अन्य परेशानियां हो सकती थी.

अल्सेशियन फीमेल डॉग को ट्रेनिंग

alsatian female dog

कूनो नेशनल पार्क (Kuno National Park) में आठों चीतों (Project Cheetah)  की सुरक्षा के लिए एक कुत्ते को प्रशिक्षित किया जा रहा है. इन चीतों को पहले नेशनल पार्क के एक विशेष बंद बाड़े में रखा जाएगा. ये बाड़ा काफी बड़े इलाके में फैला हुआ है. चीतों को शिकारियों से बचाने के लिए एक अल्शेसियन फीमेल डॉग ‘इलू’ को ‘कमांडो’ बनाया जा रहा है. चंड़ीगढ़ से 22 किमी दूर भानू में स्थित ITBP के नेशनल ट्रेनिंग सेंटर में ट्रेनिंग दी गई है.

चीतों के लिए किया गया है खास इंतजाम

Project Cheetah

चीतों को कूनो नेशनल पार्क में पूरी तरह से सुरक्षित रखने के लिए खास इंतजाम किया गया है. चीतों (Project Cheetah) के लिए पेड़ पौधे और घने जंगल के साथ नेचुरल घास का मैदान काफी अच्छा माना जाता है. इसके साथ ही पार्क में चीता मित्र नाम का संगठन बनाया गया है. जिसके तहत सरकार ने आसपास के गांवों के 250 लोगों को चिता मित्र बनाया है. जिन लोगों की चीता मित्र बनाया गया है, उसमे एक नाम है रमेश सिंह सिकरवार. रमेश, जो पहले डकैत था. चीत मित्र चीतों की रक्षा करने का काम करेंगे.

24 गांवों को किया गया विस्थापित

Project Cheetah

बता दें कि चीता मित्र संगठन के लोग गांव-गाव घूमकर लोगों को चीतों के बारे में जानकारी दे रहे हैं. इस दौरान चीता (Project Cheetah)  मित्र लोगों को इस बात की जानकारी दे रहे हैं कि अगर चीता किसी भी समय पार्क से बाहर निकल आए, तो क्या करें?.

चीता मित्रों के अलावा सुरक्षा के लिए फॉरेस्ट विभाग (Forest Department) की टीम भी लगातार पेट्रोलिंग कर रही है. कूनो नेशनल पार्क (Kuno National Park) को तैयार करने के लिए करीब 24 गांवों को विस्थापित किया गया है. विस्थापित लोगो को दूसरी जगह पर बसाया गया है.

ये भी पढ़ें- Happy Birthday PM Modi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जन्मदिन पर बधाई देने वालों का तांता, सीएम योगी ने पीएम को बताया मां भारती का परम उपासक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *