April 21, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

यह पाँच चीज़ें लड्डू गोपाल को है अत्यंत प्रिय, पूजा सामग्री में यह बिल्कुल न भूले

0
Krishna Janmashtami 2023

Krishna Janmashtami 2022: जैसा की आप सभी जानते ही है कि जन्माष्टमी आने वाली है. भक्तजन आस्था एवं भक्ति भाव से उत्साहित हैं। कृष्ण अष्टमी भाद्रपद तिथि को ही श्रीकृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाती है। धार्मिक अनुष्ठानों के अनुसार भक्त रात्रि 12 बजे लड्डू गोपाल की पूजा के पश्चात् व्रत का पारण करते हैंं।

इस बार 18 अगस्त को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी (Krishna Janmashtami 2022) का व्रत होगा और 19 अगस्त को उत्सव मनाया जाएगा। जन्माष्टमी के अवसर पर भक़्त उनको प्रिय चीज़ो से सजाते है व भोग लगाते हैं जिससे भगवान श्रीकृष्ण की कृपा बनी रहती हैं। प्रमुख 5  चीज़ें निम्न है।

बांसुरी

Krishna Janmashtami 2022

Krishna Janmashtami 2022: बांसुरी एक ऐसी चीज़ है जिसको श्री कृष्ण जब बजाते थे तो जग आनंदित हो उठता था। यह उनकी जीवन का सबसे अहम वाद्य-यन्त्र है। जिससे घर में सकारात्मक बनी रहती है

मोर पंख

Krishna Janmashtami 2022

Krishna Janmashtami 2022: भगवान श्रीकृष्ण के सौन्दर्य को मोर का पंख और सुंदरता बढ़ाता है। कान्हा जी को मोर पंख अत्यंत प्रिय थे और मान्यताओ की माने तो मोर पंख से नकारात्मक भी समाप्त होती है।

माखन मिश्री

Krishna Janmashtami 2022

पौराणिक कथाओं से यह ज्ञात होता है कि कान्हा जी को माखन मिश्री तो अत्यंत प्रिय थी जिसके लिए वो बचपन में चोरी तक किया करते थे। इसीलिए उन्हें भोग में माखन मिश्री चढ़ाया जाता है।

गाय का घी

Krishna Janmashtami 2022

जैसा कि हमें ज्ञात होता है कान्हा जी गौवाले थे उन्हें गऊ सेवा करना अत्यंत ही प्रिय था इसलिए उन्हें चढ़ाने वाले भोग में गाय का घी अवश्य डालें व गाय की छोटी मूर्ति भी संग रखें।

धनिया की पंजीरी

Krishna Janmashtami 2022

माखन मिश्री के साथ-साथ हमारे कान्हा जी को धनिया की पंजीरी भी बहुत प्रिय है। ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार धनिया से धन का लाभ होता है तो इस बार अवश्य ही धनिया की पंजीरी का भोग लगाए।

यह भी पढ़े:- रोहिणी नक्षत्र में नहीं, इन शुभ योगों में होगा इस बार की जन्माष्टमी का शुभारंभ, मिलेंगे विशेष लाभ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *