April 18, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

विधानसभा की सीढ़ियों पर भिड़े Eknath Shinde और Uddhav Thackeray के विधायक, ’50 खोखे एक दम ओके’ के लगे नारे

0
Maharashtra Politics

Maharashtra Politics: महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन (Maharashtra Politics) होने के बाद से ही एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) गुट और उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के शिव सैनिको में खिंचातनी चल रही है. इस समय महाराष्ट्र विधानसभा का मानसून सत्र चल रहा है. इस बीच आज बुधवार को राज्य विधानसभा के बाहर भाजपा और महाविकास अघाड़ी के विधायक आपस में उलझ गए. इस दौरान कुछ देर के लिए विधानसभा के बाहर अफरा-तफरी का माहौल बन गया. इस दौरान दोनों दल के विधायकों के बीच जमकर नारेबाजी देखने को मिली.

’50 खोखे एक दम ओके’ का लगा नारा

Maharashtra Politics

महाराष्ट्र विधानसभा के मानसून सत्र (Maharashtra Politics) के दौरान महाविकास अघाड़ी के विधायक विधानसभा के बाहर एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) की सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे थे. इस दौरान महाविकास अघाड़ी के विधायकों ने ’50 खोखे एक दम ओके’ का नारा लगाना शुरू कर दिया. इस बीच भाजपा विधायकों के वहां पहुंचते ही उनकी नारेबाजी तेज हो गई. जिसके बाद दोनों दलों के विधायक आपस में तू-तू मैं-मैं करते हुए नजर आएं. जिसका वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा है.

विधानसभा की सीढ़ियों पर भिड़े दोनों गुट

Maharashtra Politics: इन नारों के बाद सीएम एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) गुट के विधायकों ने भी नारे लगाए. वहीं, विधानसभा भवन की सीढ़ियों पर ही दोनों गुट आपस में भिड़ गए. इस दौरान विपक्ष यानी महाविकास अघाड़ी के विधायकों के हाथों में गाजर, मूली भी देखने को मिला. हालांकि की दोनों गुटों के बीच यह कोई पहला मौका नहीं है जब इस तरह की नोकझोंक हुई हो, जिसको लेकर एकनाथ शिंदे ने सदन में विपक्ष को मर्यादा ना लांघने को कहा था.

शिंदे ने कर दी थी बगावत

Eknath Shinde

कुछ माह पहले एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) गुट की बगावत के बाद महाराष्ट्र में सियासी (Maharashtra Politics) भूचाल आ गया था. उद्धव ठाकरे द्वारा बार-बार मनाने पर भी शिंदे कुछ भी सुनने को तैयार नही थे. वहीं, बागी विधायकों की संख्या 50 के पार पहुंच गई. जिसके बाद महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन हुआ था और सीएम उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) को इस्तीफा देना पड़ा था. वहीं शिंदे, बीजेपी के सर्मथन पर सरकार बनाने में कामयाब रहे. शिंदे जहां सीएम की कुर्सी पर बैठे तो वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस डिप्टी सीएम बने.

ये भी पढ़ें- Manish Sisodia के बाद आप विधायकों को 20-20 करोड़ का ऑफर, रेड का डर दिखाकर सरकार गिराने की कोशिश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *