February 26, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

Madras high court: मंदिरों में नहीं मिलेगा गैर हिंदू को प्रवेश, हाईकोर्ट ने दिए बोर्ड लगाने के आदेश

0
-madras-high-court

-madras-high-court

 Madras High Court: मंदिरों में गैर-हिंदुओं की एंट्री पर तमिलनाडु में बैन लगाया गया है। मंदिरों में प्रवेश को लेकर मद्रास हाईकोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है। हाईकोर्ट ने तमिलनाडु के मंदिरों में गैर हिंदुओं के प्रवेश पर रोक लगा दी है। हाईकोर्ट ने कहा कि ”मंदिर कोई पर्यटक स्थल या पिकनिक स्पॉट नहीं है। यहां कोई भी गैर-हिंदू तमिलनाडु के मंदिरों में प्रवेश नहीं कर सकता।” साथ ही कोर्ट ने धार्मिक संस्थानों को सभी मंदिरों में बोर्ड लगाने का आदेश दिया है। इस बोर्ड पर लिखा रहेगा कि ”गैर-हिंदुओं को कोडिमारम (ध्वजस्तंभ) से आगे मंदिर के अंदर जाने की इजाजत नहीं है।” कोर्ट ने यह भी कहा कि ”हिंदुओं के अपने धर्म को मानने और उसका पालन करने का मौलिक अधिकार है।” हाईकोर्ट ने यह आदेश भी दिया पलानी मंदिर से जुड़े मामले पर सुनवाई करते हुए दिया है।

गैर हिन्दू लेंगे शपथ तब होगा मंदिर में प्रवेश

Also Read: Pakistan: टारगेट किलिंग पर पाकिस्तान ने भारत को ठहराया दोषी, चीन ने किया पाकिस्तान का समर्थन

दरअसल हाईकोर्ट ने यह आदेश डी. सेंथिल कुमार नामक एक शख्स की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुनाया है। सेंथिल कुमार ने पलानी हिल टेंपल डिवोटीज ऑर्गनाइजेशन के संयोजक हैं। सेंथिलकुमार ने अपनी याचिका में डिंडीगुल जिले में पलानी स्थित धनदायुतपानी स्वामी मंदिर में गैर-हिंदुओं के प्रवेश पर रोक की मांग थी। इसके तहत उन्होंने सभी मंदिरों के एंट्री गेट पर बोर्ड लगाने के आदेश देने की भी मांग की थी, जिसमें गैर-हिंदुओं की एंट्री नहीं होने की बात लिखी हो।

सेंथिल कुमार की याचिका को मंजूरी देते हुए इस फैसले पर सुनवाई हाईकोर्ट की मदुरै बेंच की जस्टिस एस श्रीमथी ने की है। जस्टिस एस श्रीमथी ने अपने फैसले में ”मंदिर के एंट्री गेट, ध्वजस्तंभ के पास और मंदिर में प्रमुख जगहों पर बोर्ड लगाने के निर्देश दिए हैं। जिस पर लिखा होगा कि गैर-हिंदुओं को मंदिर के भीतर कोडिमारम के आगे जाने की इजाजत नहीं है।” उन्होंने आगे यह भी कहा है कि ”अगर कोई गैर हिंदू मंदिर में जाता है तो अधिकारी उससे शपथ पत्र लेंगे कि वह देवता में विश्वास करता है। साथ ही वह हिंदू रिति रवाजों और प्रथाओं का पालन करेगा।”

क्यों दायर की याचिका?

याचिका दायर करने वाले सेंथिल कुमार मंदिर की तलहटी में एक दुकान चलाते हैं। सेंथिल ने बताया था कि ”कुछ गैर-हिंदुओं ने मंदिर में जबरन घुसने की कोशिश की थी जो वहां पिकनिक मनाने आए थे। जब अधिकारियों से उनकी बहस हुई तो उन्होंने कहा कि ये एक पर्यटक स्थल है और यहां कहीं भी नहीं लिखा है कि गैर- हिंदुओं को प्रवेश की अनुमति नहीं है।”

 

Also Read: Budget 2024: केन्द्र की मोदी सरकार का ऐलान, बजट से पहले दिया देश को तोहफा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *