March 2, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

यदि आप जन्माष्टमी पर्व पर वृंदावन जाना चाहते है तो जानिए की कहां फ्री में ठहरे

0
Vrindavan On Janmashtami

Vrindavan On Janmashtami: भारत में कृष्ण जन्माष्टमी को सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में गिना जाता है। कहते हैं जन्माष्टमी के बाद से ही देश में त्योहारों की शुरुआत होने लगती है। इस त्योहार को देश के हर कोने में बड़े उत्साह और भव्यता के साथ मनाया जाता है, लेकिन कृष्णभूमि के रूप में प्रसिद्ध मथुरा और वृन्दावन के लोग ये दिन बड़े ही जोर-शोर के साथ एक जश्न के रूप में मनाते हैं।

अगर आप भी इस खास मौके पर वृंदावन (Vrindawan On Janmashtami) जाना चाहते हैं, और एक से दो दिन आराम से ठहर कर इस त्योहार का आनंद लेना चाहते हैं, लेकिन ठहरने के लिए कोई व्यवस्था नहीं मिल रही हो, तो चलिए हम आपको वृन्दावन के उन आश्रमों के बारे में बताते हैं, जहां आप फ्री में भी ठहर सकते हैं।

बालाजी आश्रम

Vrindavan On Janmashtami

Vrindavan On Janmashtami: हम जब भी कहीं घूमने जाते हैं, तो सबसे पहले ठहरने का इंतजाम जरूर देखते हैं। किसी भी जगह जाने से पहले सबसे बड़ी टेंशन हमे यही होती है कि होटल ज्यादा महंगा न मिले, लेकिन वृंदावन के इस आश्रम में आपको एक भी पैसा नहीं देना पड़ेगा।

जी हां, बालाजी आश्रम प्राचीन और एक प्रसिद्ध आश्रम है। कहा जाता है कि लोग इस आश्रम में फ्री में योग, मेडिटेशन और डिटॉक्स जैसे प्रोग्राम में शामिल होने के लिए आते हैं। अगर आप इस आश्रम में रुकना चाहते हैं, तो आपको एक वॉलेंटियर के रूप में काम करना पड़ेगा। हालांकि, इस आश्रम में खाना खाने के लिए आपको भुगतना करना पड़ेगा।

श्री गोविंद धाम आश्रम

Vrindavan On Janmashtami

Vrindavan On Janmashtami: वृंदावन आध्यात्मिकता के साथ-साथ एक शांत स्थान भी है, यदि आप एक से दो दिन के लिए किसी शांत जगह की तलाश में हैं, तो आप एक बार श्री गोविंद धाम आश्रम जरूर जा सकते हैं। आपको बता दें कि, यहां सबसे ज्यादा वृद्ध महिलाओं को ठहरने के विकल्प दिए जाते हैं। इस आश्रम को लेकर यह भी कहा जाता है कि यदि आपको यहां ठहरना है, तो आपको यहां कुछ वॉलेंटियर के रूप में आश्रम में कुछ श्रमदान करना पड़ेगा, जैसे:- गार्डनिंग, साफ-सफाई आदि।

वृंदावन में घूमने के स्थान

Vrindavan On Janmashtami

Vrindavan On Janmashtami: वृंदावन में बांके बिहारी मंदिर अवश्य ही जाएं, यहां कृष्ण भगवान बाल रूप में स्थापित हैं। इसके बाद आप प्रेम मंदिर जा सकते हैं, जो अपनी खूबसूरती से रोडसाइड जाने वाले लोगों को गाड़ी रोककर देखने के लिए मजबूर कर देता है। फिर आप निधिवन, राधा रमन मंदिर, इस्कॉन मंदिर, गोविंद देवी जी मंदिर, श्री रंगजी मंदिर जैसी जगहों पर भी जा सकते हैं।

यह भी पढ़े:- यह पाँच चीज़ें लड्डू गोपाल को है अत्यंत प्रिय, पूजा सामग्री में यह बिल्कुल न भूले

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *