April 19, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

Criminal Law Changes: एक जुलाई से लागू होगा नया क्रिमिनल लॉ, नए कानून में हुआ ये बदलाव

0
criminal-lawyer

criminal-lawyer

Criminal Law Changes: भारतीय न्याय संहिता, भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता और भारतीय साक्ष्य बिल को दोनों सदनों से पारित किया गया था। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने इन तीनों कानूनों को बदलने की मंजूरी तक दे दी थी। वहीं अब तीन नए क्रिमिनल कानून 1 जुलाई 2024 से लागू हो जाएंगे। इसे लेकर केंद्र सरकार ने आज अधिसूचना भी जारी कर दी है।

नए क्रिमिनल लॉ बिलों की सूची

अब इन बिलों को नए नाम से जाने जाएगा भारतीय दंड संहिता को भारतीय न्याय संहिता, दंड प्रक्रिया संहिता को भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता और भारतीय साक्ष्य अधिनियम को भारतीय साक्ष्य संहिता के नाम से जाना जाएगा।

Also Read: CM योगी ने UP Police Bharti परीक्षा को किया निरस्त, 6 माह के भीतर दोबारा एग्जाम

नए बिल में हुए ये-ये बदलाव

बता दें कि इन तीनों बिलों को शीतकालीन सत्र के दौरान संसद के दोनों सदनों द्वारा पारित किया गया था। फिर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने तीनों नए क्रिमिनल लॉ बिल को मंजूरी दे दी थी। कानून भारतीय साक्ष्य अधिनियम 1872, आपराधिक प्रक्रिया संहिता 1973 और आईपीसी की जगह लेंगे।

पहले भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 302 में हत्या की सजा का प्रावधान था लेकिन अब नए कानून के मुताबिक ये धारा 101 के तहत दी जाएगी। नए कानून में धारा 302 स्नेचिंग के लिए लगाई जाएगी।

इसी के तहत भारतीय दंड संहिता में धारा 420 को धोखाधड़ी के अपराध के लिए लगाई जाती थी। लेकिन नए बिल में धोखाधड़ी की धारा बदलकर 316 कर दी गई है। धारा 420 को खत्म कर दिया गया है। इसी के साथ धारा 144 को अब धारा 187 में तब्दील कर दिया गया है।

भारत सरकार के खिलाफ युद्ध छेड़ना, युद्ध छेड़ने का प्रयास करना या फिर युद्ध छेड़ने के लिए उकसाने के लिए लगाई जाने वाली धारा 121 को बदल दिया गया है। अब उसकी जगह धारा 146 को उपयोग में लाया गया है। वहीं आईपीसी की धारा 499, मानहानि के लिेए इस्तेमाल इस धारा को अब नए कानून की धारा 354 के रूप में इस्तेमाल के रुप में लाया जाएगा।

बलात्कार से निपटने वाली धारा 376, की जगह धारा 63 है और धारा 64 सजा से संबंधित है और धारा 70 सामूहिक बलात्कार के अपराध से संबंधित है। आईपीसी की धारा 124-ए, जो राजद्रोह से संबंधित है, इसे अब नए कानून के तहत धारा 150 के रूप में जाना जाएगा।

 

यह भी पढ़ें: Uttarakhand News: हल्द्वानी हिंसा के मास्टरमाइंड को पुलिस ने किया गिरफ्तार, जानें कौन है अब्दुल मलिक?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *