April 17, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

Bihar Police: प्रदर्शनकारी अतिथि शिक्षकों पर पुलिस का बरसा डंडा, वायरल वीडियो में ‘मारो, इन सभी को मारो’ कहता दिखा पुलिसकर्मी

0
Patna Guest Teacher

Patna Guest Teacher

Bihar Police: बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) के जरिए बिहार में हजारों शिक्षकों की नियुक्तियां हुई है। इस के तहत प्रदेश के हजारों अतिथि शिक्षकों की नौकरी खतरे में आ गई है। इन शिक्षकों की सेवा समाप्त करने के लिए शनिवार 30 मार्च को विभाग के स्तर से पत्र जारी किया गया था। इसको देखते हुए आज सोमवार 1अप्रैल को पटना में अतिथि शिक्षक प्रदर्शन करने पहुंचे थे। फिर बिहार पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे शिक्षकों को लाठी से दौड़ा-दौड़ा कर पीटा है। 

‘मारो, इन सभी को मारो’

खबरों के मुताबिक  शिक्षक प्रदर्शन करते हुए मुख्यमंत्री आवास घेरने के लिए जा रहे थे, पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की लेकिन जब नहीं माने तो पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। पुलिस ने शिक्षकों को सड़क पर दौड़ा-दौड़ा कर पीटा है। वायरल वीडियो में एक पुलिसकर्मी को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि ‘’मारो, इन सभी को मारो’’। 

Also Read: Arvind Kejriwal: आईफोन का पासवर्ड नहीं बता रहे केजरीवाल, एप्पल ने भी किया इनकार, जेल जाते वक्त इन चीजों की मांग

लाठी से परमानेंट नौकरी दे रही पुलिस 

सोशल मीडिया पर इस वीडियो को खूब शेयर किया जा रहा है और शेयर करते हुए लोग सरकार पर तंज कस रहे हैं। एक यूजर ने ने लिखा कि ‘’बिहार पुलिस अतिथि शिक्षकों को पकड़ पकड़कर लाठी से परमानेंट नौकरी दे रही है’’। दूसरे ने लिखा कि ‘’चाहे जिसकी भी सरकार हो, उसकी सरकार में शिक्षक को पुलिस की लाठी से गुजरना होता है’’। 

4257 अतिथि शिक्षक बेरोजगार 

बता दें कि विभाग की ओर से जारी पत्र के अनुसार वर्तमान में राज्य के कक्षा नौ और 10 के लिए 37 हजार 847 और कक्षा 11-12 के लिए 56 हजार 891 शिक्षकों की नियुक्ति करके उन्हें विद्यालयों में पद दिया जा चुका है। इसलिए अब अतिथि शिक्षकों को सेवा में बनाए रखने की कोई जरूरत नहीं है। इस आदेश के बाद बिहार के उच्च माध्यमिक स्कूलों में करीब 6 साल से पढ़ा रहे 4257 अतिथि शिक्षक बेरोजगार हो जाएंगे। 

विभाग का पूर्व आदेश क्या कहता है? 

शिक्षा विभाग के संकल्प संख्या-51, दिनांक-25 जनवरी 2018 और संकल्प संख्या 371, दिनांक-3 जुलाई 2023 में साफ तौर पर कहा गया है कि ‘’जिस विषय के लिए अतिथि शिक्षक की सेवा ली जा रही है, उस विषय के लिए नियमित शिक्षक की नियुक्ति हो जाती है तो अतिथि शिक्षक की सेवा न ली जाए।’’

 

Also Read: Arvind Kejriwal: पूछताछ में केजरीवाल ने लिया आतिशी और सौरभ भारद्वाज, कर रहे गुमराह करने की कोशिश!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *