March 2, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

Bhakshak Review: भूमि पेडनेकर फिर लौटीं सोशल मुद्दों के साथ, समाज के भक्षकों को किया उजागर

0
bhakshak

bhakshak

Bhakshak: भूमि पेडनेकर की फिल्म ‘भक्षक’ (Bhakshak) 9 फरवरी शुक्रवार को नेटफ्क्लिस पर रिलीज हो गई है। भूमि एक बार फिर अपनी फिल्म के जरिए सोशल मुद्दों को सामने लेकर आई हैं। ‘भक्षक’ एक क्राइम, थ्रिलर, सस्पेंस, रियलिटी पर अधारित फिल्म है, जिसमें भूमि पेडनेकर ने पत्रकार वैशाली सिंह का किरदार निभाया है। फिल्म की कहानी देखकर आपको मुजफ्फरपुर शेल्टर होम’ में हुए हैवानियत भरे मंजर की याद आ जाएगी।

 

सच्ची घटनाओं पर आधारित है फिल्म

बता दें कि अभी कुछ दिनों पहले ही ‘भक्षक’ का ट्रेलर रिलीज हुआ था, जिसे देखकर साफ हो गया था कि ‘भक्षक’ की कहानी ‘मुजफ्फरपुर शेल्टर होम’ के जैसी ही है। हालांकि फिल्म की कहानी सीधे तौर पर ‘मुजफ्फरपुर शेल्टर होम’ का नाम नहीं लेती लेकिन ट्रेलर में कहानी को सच्ची घटनाओं पर आधारित बताया गया है।

Also Read: लापता लेडीज फिल्म का ट्रेलर हुआ रिलीज, आमिर खान ऑडीशन में नहीं हुए थे पास, रवि किशन ने निभाया किरदार

फिल्म बनाने के लिए हिम्मत चाहिए

दरअसल कुछ फिल्में एंटरटेनमेंट के लिए होती हैं। कुछ पैसा कमाने के लिए होती हैं, कुछ यूं ही बना दी जाती हैं। लेकिन वहीं कुछ फिल्में ऐसी होती हैं जिन्हें देखते हुए आपकी रूह कांप उठती है। आप बेचैन हो जाते हैं, आपको गुस्सा आता है, आप सोचने पर मजबूर हो जाते हैं कि ये हम किस तरह के समाज में रहते हैं। यहां तो जानवर भी इंसानों से कई गुना ज्यादा बेहतर हैं। ऐसी ही फिल्म है भक्षक। ऐसी फिल्म बनाने के लिए हिम्मत चाहिए। आजकल फिल्मों को बनाने और देखना का नजरिया दोनों बदलने लगा है।

कुछ ऐसी है फिल्म की कहानी

फिल्म की कहानी शेल्टर होम में नाबालिग लड़कियों के साथ होने वाले दुष्कर्मों की है। ऐसा ही एक कांड यूपी के मुजफ्फरपुर में हुआ था। लेकिन फिल्म में जगह का नाम बदलकर मुनव्वरपुर कर दिया गया है। ‘भक्षक’ की कहानी शुरू होती है मुन्नवरपुर में रहने वाली वैशाली सिंह (भूमि पेडनेकर) से जो एक यूट्यूब चैनल चलाती हैं। वैशाली ऐसी पत्रकारिता करने में यकीन रखती हैं, जो समाज में बदलाव लेकर आ सके। इसी के तहत एक इन्फॉर्मर वैशाली सिंह को सरकार की वो ऑडिट रिपोर्ट देता है, जिसमें शेल्टर होम की लड़की के साथ हो रहे अत्याचार की कहानी दर्ज है।

सरकार और सिस्टम कुछ करने को तैयार नहीं है। यह जानने के बाद वैशाली सिंह फैसला लेती है कि वह बच्चियों को इंसाफ दिला के रहेंगी। इसके लिए वैशाली अपने अधेड़ उम्र के कैमरा-मैन भास्कर यानि (संजय मिश्रा) के साथ इंसाफ की लड़ाई लड़ने निकल पड़ती है जिसके खिलाफ उसकी बहन, पति, जीजा और पूरा सिस्टम है। इंसाफ की इस लड़ाई में आगे क्या होता है, यह जानने के लिए आपको फिल्म देखनी होगी।

फिल्म चौंकाती है, डराती है

‘भक्षक’ का निर्देशन पुलकित ने किया है। पूरी फिल्म में कोई मसाला नहीं डाला गया है। फिल्म के पहले सीन की बात करें तो आपको लगता है कि आप फिल्म नहीं देख पाएंगे। फिल्म आपको अन्दर से हिल कर रख देती है कि इंसानियत किस हद तक गिरती है और इंसाफ कैसे मिलता है। इस फिल्म को बेहद ही उम्दा रिसर्च के साथ बनाया गया है। भूमि पेडनेकर एक पत्रकार और हाउसवाइफ के रोल को किस तरह से निभाती हैं ये फिल्म की सबसे खास बात है। फिल्म का कोई भी सीन आपको फालतू नहीं लगेगा। ये फिल्म चौंकाती है, डराती है और हिलाती है।

 

Also Read: Satish Kaushik की आखिरी फिल्म Kaagaz 2 का ट्रेलर रिलीज, पोस्ट शेयर कर भावुक हुए अनिल कपूर और अनुपम खेर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *