February 29, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

Agra News: दो सगी बहनों ने Brahma Kumaris आश्रम में की आत्महत्या, वजह जान हो जाएंगे हैरान

0
Agra News

Agra News

Agra News: उत्तर प्रदेश के आगरा से एक हैरान कर देने वाली खबर सामने आ रही है, जहां दो सगी बहनों ने आत्महत्या कर ली है। घटना आगरा के जगनेर की है। प्रजापति ब्रह्माकुमारी आश्रम में दोनों सगी बहनों ने फांसी लगाकर आत्महत्या की। दोनों बहनों ने सुसाइड करने से पहले एक नोट भी लिखा और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से गुहार लगाई। इस नोट में उन्होंने संस्था के ही 4 लोगों को दोषी ठहराया है। उन्होंने सुसाइड नोट में लिखा कि प्लीज योगी जी इनको आशाराम बापू की तरह आजीवन जेल में रखना।

दो सगी बहनों ने की आत्महत्या

आगरा (Agra News ) के जगनेर में बसई रोड पर प्रजापति ब्रह्माकुमारी आश्रम है। इस आश्रम में जगनेर की रहने वाली 37 साल की एकता और उनकी छोटी बहन 34 साल की शिखा 2005 से ब्रह्माकुमारी आश्रम में रह रही थीं। ब्रह्माकुमारी आश्रम में सुसाइड से खलबली मच गई। जिसके बाद ये खबर मृतकों के घर पर बताई गई। इस पूरे मामले में एकता के भाई सोनू का कहना है कि शुक्रवार रात 11 बजे के बाद उनके व्हाट्सएप पर रूपवास ब्रह्माकुमारी आश्रम की बहन ने सुसाइट नोट भेजा और फोन करके बताया कि एकता और शिखा ने सुसाइड कर लिया है। जिसके बाद सोनू अपने घर से ब्रह्माकुमारी आश्रम पहुंचे, जहां उनकी दोनों बहनों के शव कमरे में फंदे पर लटके हुए थे।

दो आरोपी गिरफ्तार, दो फरार

सुसाइड नोट में जिन चार आरोपियों के बारे में बताया गया था पुलिस ने उनमें से दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं दो आरोपी फरार हैं। फरार आरोपियों की तलाश के लिए पुलिस की टीमें गठित कर तलाश की जा रही है।

मृतकों ने योगी से की अपील

कमरे से मुख्यमंत्री योगी को संबोधित करते हुए चार पेज का सुसाइड नोट मिला है। इस सुसाइड नोट में धौलपुर के रहने वाले नीरज सिंघल, नीरज के पिता, धौलपुर के रहने वाले ताराचंद और ग्वालियर आश्रम में रहने वाली एक महिला को जिम्मेदार ठहराया है।

8 साल पहले ली थी दीक्षा

Also Read: Soumya Viswanathan मामले में सुनवाई सात नवंबर को होगी

पुलिस के मुताबिक एकता और शिखा नाम की दो सगी बहनों ने ब्रह्माकुमारी से दीक्षा ली थी। दीक्षा लेने के बाद दोनों बहनों ने जगनेर में ब्रह्माकुमारी केंद्र बनवा दिया। मृतक बहनों में से शिखा जिसकी उम्र 32 साल है उसने एक पेज का सुसाइड नोट लिखा है, जबकि एकता जिसकी उम्र 38 साल है उसने दो पेज का सुसाइड नोट लिखा है। शिखा ने सुसाइड में दोनों बहनों के पिछले एक साल से परेशान होने का जिक्र किया है। सुसाइड नोट में उन्होंने अपनी मौत का जिम्मेदार आश्रम के नीरज सिंघल और उसके पिता, धौलपुर के ताराचंद और ग्वालियर के आश्रम में रहने वाली एक महिला को जिम्मेदार ठहराया है।

एकता ने क्या लिखा

एकता ने सुसाइड नोट में लिखा है कि ‘नीरज ने केंद्र में रहने का आश्वासन दिया था लेकिन जब केंद्र बन गया उसके बाद नीरज ने बात करना बंद कर दिया। एक साल तक दोनों बहनें रोती रहीं लेकिन किसी ने नहीं सुनी। 15 साल तक नीरज एकता के साथ रहा, इसके बाद भी वह ग्वालियर की महिला के साथ संबंध बनाता रहा।

हड़प लिए पैसे

शिखा और एकता ने सुसाइड नोट में लिखा कि उनके पिता ने प्लॉट के लिए 7 लाख रुपए आश्रम से जुड़े व्यक्तियों को दिए थे। इसके अलावा 18 लाख रुपए गरीब माताओं से लिए गए थे, जिन्हें चारों आरोपियों ने हड़प लिया। ये लोग पैसे हड़पने के साथ-साथ महिलाओं के साथ अनैतिक काम करते हैं और दबंगई दिखाते हुए कहते हैं कि कोई उनका कुछ नहीं कर सकता। इन आरोपियों ने बहुत से लोगों के साथ गलत किया है।

Also Read: Elvish Yadav से 1 करोड़ रंगदारी मांगने वाला गिरफ्तार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *