April 14, 2024

#World Cup 2023     #G20 Summit    #INDvsPAK    #Asia Cup 2023     #Politics

Ae Watan Mere Watan का ट्रेलर हुआ रिलीज, आजादी के संघर्ष की सच्ची कहानी, साथ आए Emraan Hashmi और Sara

0
Sara,Usha

Sara,Usha

Ae Watan Mere Watan: करण जौहर के बैनर तले बनी फिल्म ‘ए वतन मेरे वतन’ का ट्रेलर रिलीज हो चुका है। इस फिल्म में सारा अली खान, इमरान हाशमी लीड रोल में पहली दफा साथ काम करते नजर आएंगे। सच्ची घटना पर आधारित यह फिल्म फ्रीडम फाइटर ऊषा मेहता की बायोपिक है। इस फिल्म में सारा 22 साल की ऊषा नाम की एक साहसी लड़की का किरदार निभाती हुई दिखाई दे रही हैं। कनन अय्यर निर्देशित यह फिल्म 21 मार्च को प्राइम वीडियो पर रिलीज होगी।

Sara or Emraan

एक लड़की के साहस की कहानी

बता दें कि सारा अली खान की आगामी फिल्म ‘ए वतन मेरे वतन’ का ट्रेलर जारी हो गया है। इसमें आजादी के संघर्ष को दिखाया गया है। ट्रेलर में सारा 22 साल की एक बहादुर लड़की का किरदार निभा रही हैं जो 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान ब्रिटिश राज के खिलाफ देश को एक साथ लाने के लिए चोरी-छिपे रेडियो स्टेशन चलाती हैं।

Sara

Also Read: Anant and Radhika Pre Wedding: अनंत-राधिका की प्री-वेडिंग में चार-चांद लगाने पहुंचा हॉलीवुड और बॉलीवुड सेलेब्स, जानें कौन पहुंचा, कौन बाकी?

अंग्रेजों ने देश का नाश किया

ट्रेलर के शुरुआती में ”सारा अली खान हाथों में तिरंगा थामे दौड़ती नजर आती हैं। फिर बैकग्राउंड से आवाज आती है, ”अंग्रेजों ने हमारे देश का कर दिया है नाश। हम क्या सोचेंगे, क्या बोलेंगे, क्या देखेंगे सब कंट्रोल किया जा रहा है और हम कंट्रोल हो रहे हैं। इसके बाद महात्मा गांधी की सभा का दृश्य है, जिसमें बापू कहते हैं, ‘तोड़ दो डर की दीवारें और साहस के पंख फैलाकर उड़ जाओ। पंख फैलाने में ही वीरता है’। बापू की यह बात ऊषा (सारा अली खान) पर गहरा असर करती है।”

रोडियो को बनाई देश की आवाज

वहीं आजादी के आंदोलन में ऊषा हिस्सा लेती हैं। उनके पिता इसके खिलाफ होते हैं। दादी अंग्रेजों के जुल्म का डर पोती को दिखाती हैं लेकिन ऊषा पर किसी डर, धमकी का कोई असर नहीं होता। वह अपनी आवाज और बुलंद करती है और एक साहसी कदम उठाती हैं और खोल लेती हैं अपना एक रोडियो स्टोशन जिससे उनकी आवाज देश के कोने-कोने में आजादी के दीवानों तक पहुंचती है।

हौसला बरकरार रखा, हिम्मत नहीं हारी

आवाज आती है, ‘यह है देश का रेडियो, हिंदुस्तान में कहीं से, कहीं पर हिंदुस्तान में’। आवाज निकलती है तो फिर दूर तक जाती है, लोगों का साथ मिलता जाता है, अंग्रेजों के खिलाफ भारत की लड़ाई और भी मजबूती होती जाती है। हाथों में तिरंगा थामे सारा अली खान बापू की बात ‘करो या मरो’ को दोहराती हैं। साहस, मेहनत और जज्बा सब रंग लाता है। लेकिन, रेडियो बंद करने की धमकी मिलती हैं, लेकिन उनका हौसला नहीं टूटता।

कौन थीं ऊषा मेहता?

ऊषा मेहता भारतीय सामाजिक कार्यकर्ता और स्वतंत्रता सेनानी थी। उनका जन्म 25 मार्च 1920 में गुजरात के सूरत में हुआ था, ऊषा ने मात्र 8 साल की उम्र में पहली बार साइमन कमीशन प्रोटेस्ट मार्च में हिस्सा लिया था। इसके बाद ऊषा ने देश के स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थीं। वो महात्मा गांधी के नेतृत्व में रेडियो प्रसारण और सन्देश प्रसार का काम करती थीं।

पद्म विभूषण से हुई सम्मानित

उनका प्रमुख कार्यक्षेत्र आजाद रेडियो था जो 1942 से 1944 तक चला। वो ब्रिटिश सरकार के विरुद्ध समाचार का प्रसारण रेडियो द्वारा किया करती थी। लोगों को आजादी के संदेश सुनाकर आजादी की लड़ाई का हिस्सा बनने के लिए प्रेरित करती थीं। 1998 में भारत सरकार ने ऊषा को पद्म विभूषण से सम्मानित किया था।

अमेजन प्राइम पर देखें

यह फिल्म 21 मार्च को अमेजन प्राइम वीडियो पर रिलीज होगी। इसे करण जौहर ने प्रोड्यूस किया है। इस फिल्म का निर्देशन कन्नन अय्यर ने किया है। सारा के अलावा सचिन खेडेकर, स्पर्श श्रीवास्तव, अभय वर्मा, एलेक्स ओ नेल और आनंद तिवारी फिल्म में मुख्य भूमिका में हैं।

 

Also Read: Pawan Singh को डराने लगा TMC का डर, Shatrughan Sinha के सामने आने से पहले चुनाव लड़ने से क्यों किया इनकार!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *